यायावरी yayavaree: जापान की चिट्ठी (Letters from Japan)

जापान की चिट्ठी (Letters from Japan)

भारत और जापान के रिश्‍ते हमेशा से गहरी मित्रता वाले रहे हैं और भारत और जापान के लोगों के बीच सदियों से सांस्‍कृतिक आदान-प्रदान होता आया है. एशिया के ये दो सबसे बड़े और सबसे पुराने लोकतंत्रात्‍मक देश आज सबसे बड़े आर्थिक और रणनीतिक भागीदार बनकर उभर रहे हैं और वैश्विक और क्षेत्रीय चुनौतियों का मिलकर सामना कर रहे हैं. भारत और जापान के बीच संबंधों और संपर्कों के सैकड़ों कारण हैं.

हाल के समय में भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और जापानी प्रधानमंत्री श्री शिंजो आबे के दौर में भी भारत और जापान संबंध निरंतर प्रगाढ़ हो रहे हैं. ये मजबूत संबंधों की एक नई इबारत है. लेकिन इस सबके बावजूद, ये एक दिलचस्‍प बात है कि एक आम भारतीय जितना अमेरिकाचीन और रूस के विषय में सामान्‍य जानकारी रखता है उतना जापान के बारे में नहीं. 

रुचिरा शुक्‍ला 
 ब्‍लॉगिंग की दुनिया में अंग्रेजी भाषा में फिर भी थोड़ा-बहुत लिखा-पढ़ा जा रहा है मगर हिंदी भाषा में जापान से परिचय कराने वाली सामग्री बहुत कम नज़र आती है. हिंदी के प्रबुद्ध पाठकों के लिए इसी अभाव को थोड़ा कम करने की एक नई कोशिश जापान की चिठ्ठी के ज़रिए की जा रही है. जापानी भाषा की विशेषज्ञ ब्‍लॉगर मित्र रुचिरा शुक्‍ला  जी जापान से पिछले 10 से अधिक वर्षों से जुड़ी हुई हैं और इस लंबे अरसे में उन्‍होंने जापान को बखूबी देखा और समझा है. वे पिछले काफी वक्‍़त से जापान में रह रही हैं और नियमित रूप से जापान पर लिख रही हैं. उन्‍होंने जापान के किस्‍से-कहानियों को हमसे साझा करने की सहर्ष सहमति दी है. 


वे समय-समय पर जापान से चिट्ठियां भेजती रहेंगी जिसे मैं हिंदी में अनुवाद कर आप सभी के साथ साझा करता रहूंगा. इन चिट्ठियों में जापान की संस्‍कृति के विभिन्‍न पहलुओं, वहां के उत्‍सवोंखान-पानसामाजिक हलचलोंजापान के इतिहास की झलक देखने को मिलती रहेगी. अनुवाद के माध्‍यम से ये प्रयास न केवल हिंदी-भाषी पाठकों को जापान के थोड़ा और क़रीब लेकर आएगा बल्कि हम सभी को जापान की संस्‍कृति को जानने और समझने में मदद भी करेगाऐसा हम दोनों का विश्‍वास है.


इस श्रंंखला केे पोस्‍ट लिंक यहां देखें :   


1.  रौशनियों और ख़्वाहिशों का उत्‍सव है तानाबाता (Tanabata Festival) : जापान की पहली चिट्ठी


जापान में तानाबाता का उत्‍सव










2.  बहुत अनूठा है जापान का शिंतो धर्म (Shintoism in Japan): जापान की दूसरी चिट्ठी 


मेईजी श्राइन में बड़ी तोरी
 

















अगली चिट्ठी का इंतज़ार है....  

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपको ये पोस्‍ट कैसी लगी ?

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...